Wednesday, October 1, 2008

हम बुलबुल मस्त बहारों की, हम बात तुम्हारी क्यों मानें ?

जब से व्याही हूँ साथ तेरे
लगता है मजदूरी कर ली
बर्तन धोये घर साफ़ करें
बुड्ढे बुढ़िया के पैर छुएं,
फूटी किस्मत, अरमान लुटे, अब बात तुम्हारी क्यों माने ?


ना नौकर हैं, न चाकर हैं
न ड्राईवर है, न वाचमैन,
घर बैठे कन्या दान मिला
ऐसे भिखमंगे चिरकुट को,
चौकीदारी इस घर की कर, हम बात तुम्हारी क्यों मानें


ये शकल कबूतर सी लेकर
पति परमेश्वर बन जाते हैं !
जब बात खर्च की आए तो
मुंह पर बारह बज जाते हैं !
हम बुलबुल मस्त बहारों की, हम बात तुम्हारी क्यों मानें ?


पत्नी सावित्री सी चहिये ?
पतिपरमेश्वर का ध्यान रखे
गंगा स्नान के मौके पर
जी करता धक्का देने को !
हम आग लगा दें दुनिया में, हम बात तुम्हारी क्यों माने ?


हम लवली हैं ,तुम भूतनाथ
हम प्रेतविनाशक तुम कायर
हम उड़नतश्तरी पर घूमें,
जब तुम दफ्तर भग जाते हो
हम धूल उड़ा दें दुनिया की हम बात तुम्हारी क्यों मानें ?

21 comments:

  1. भाई बात भी सही है और कविता भी मजेदार कही है।

    ReplyDelete
  2. यह काफी स्त्रियों की व्यथा है जिसे आपने बहुत ही सुंदर तरीके से प्रस्तुत किया है. पुरुषों के लिये आत्मान्वेषण का रास्ता दिखा दिया आप ने.

    -- शास्त्री

    -- हिन्दीजगत में एक वैचारिक क्राति की जरूरत है. महज 10 साल में हिन्दी चिट्ठे यह कार्य कर सकते हैं. अत: नियमित रूप से लिखते रहें, एवं टिपिया कर साथियों को प्रोत्साहित करते रहें. (सारथी: http://www.Sarathi.info)

    ReplyDelete
  3. भाई मे तो ड्राईवर भी हूं, खरीदारी करवाने वाला *मुंडू* भी हु, ओर मेरी बीबी घर के सारे काम भी खुशी खुशी करती हे,लेकिन हमारे मन मे कभी भी ऎसी बातें नही आई.
    कविता तो अच्छी लिखी हे,लेकिन यह व्यथा कोन सी नारियो की हे????क्यो की मेने तो सभी को मिलजुल कर ही घर बसाते देखा हे, ओर अगर किसी भी परिवार मे दोनो मे से एक भी नालायक हो उस घर का तो हमारे देश जेसा ही हाल होगा.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  4. हम लवली हैं ,तुम भूतनाथ
    हम प्रेतविनाशक तुम कायर
    हम उड़नतश्तरी पर घूमें,
    जब तुम दफ्तर भग जाते हो
    हम धूल उड़ा दें दुनिया की हम बात तुम्हारी क्यों मानें ?

    बहुत जानदार रचना ! सही कहा आपने !

    ReplyDelete
  5. हा हा!! बहुत मजेदार!!

    ReplyDelete
  6. बहुत बढिया,मज़ा आ गया।

    ReplyDelete
  7. हास्य का पुट देते हुए आपने जो व्यंग किया है बहुत ही प्रभावी बन पड़ा है। और आपकी शैली तो हमेशा की तरह अनूठी है ही।
    बधाई

    ReplyDelete
  8. वाह बंधुवर वाह..
    सुघड़ हास्य के गीत आजकल कौन लिखता है..?
    आपको पढ़ कर तसल्ली हुई..
    साधुवाद...

    ReplyDelete
  9. प्रिय सक्सेना जी =आपकी कुछ साहित्यिक रचनाएँ पढी थी एक दो पर कमेन्ट भी दिए =आपका हंसमुख चेहरा देख कर मुझे शंका तो हो रही थी कि यह गंभीर लेखक किसी एंगिल से चुटीली रचनाओं का रचियता जरूर होगा = आज मेरा अंदाज़ ठीक निकला /भाई कोई इसे नारी की व्यथा कह सकता है मगर मुझे तो , पति पत्नी की छेड़छाड़ ,शिष्ट हास्य ,व्यंग्य ,मजाक ,चुटीलापन सब कुछ नजर आगया /

    ReplyDelete
  10. आपकी कविता इतनी पसंद आयी की इसका लिंक मेरे ब्लॉग की पसंदीदा रचनाओं में दे रहा हूँ ! और इसकी कुछ लाइने भी मेरे पसंदीदा कवियों की लिस्ट में लगा रहा हूँ ! आशा है आप परमिशन देंगे !

    ReplyDelete
  11. आपकी कविता इतनी पसंद आयी की इसका लिंक मेरे ब्लॉग की पसंदीदा रचनाओं में दे रहा हूँ ! और इसकी कुछ लाइने
    भी मेरे पसंदीदा कवियों की लिस्ट में लगा रहा हूँ ! आपसे बिना परमिशन लिए मैंने ऐसा कर दिया है आशा है आप
    परमिशन देने की कृपा करेंगे !

    ReplyDelete
  12. लो जी एक हम ही रह गए थे, जो इतना अच्छी कविता नहीं पढ़ पाये. आज पढ़ ली, कसम से मज़ा आ गया.

    ReplyDelete
  13. vaah maza aa gya. lekin filhaal aur bhavishya main hamaari aisee koi vyatha nahi hai.

    ReplyDelete
  14. सतीश जी
    बात तुम्हारी क्यों मानें वाली महिलाओं को भारतीय महिलायें ही अस्वीकार कर देगीं. यही नही बात न मानने वाली महिलायें और पुरुष अपने एकांकी पन से परेशान होगें तब भारतीयता ही उन्हें शांति प्रदान करेगी. हम फ़िर भी उनके साथ सहयोग करेगें.

    ReplyDelete
  15. पर वक्त पड़े पर हम ही तो
    झांसी की रानी बनती हैं
    महिषासुर मर्दन की खातिर
    विकराल भवानी बनती हैं
    अपने ही जौहर से बढ़तीं रजपुती आनों की शानें

    ReplyDelete
  16. sahii keha rakesh ji aur jab naari yae rup dhaaran kartee haen tabhie uski ouja aur aaradhna hotee haen
    bhay bin hoi naa preetee

    ReplyDelete
  17. bahoot khoob!!
    --Aapka shubhchintak

    ReplyDelete
  18. हर बार की तरह लाज़बाब
    बहुत सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete

एक निवेदन !
आपके दिए गए कमेंट्स बेहद महत्वपूर्ण हो सकते हैं, कई बार पोस्ट से बेहतर जागरूक पाठकों के कमेंट्स लगते हैं,प्रतिक्रिया देते समय कृपया ध्यान रखें कि जो आप लिख रहे हैं, उसमें बेहद शक्ति होती है,लोग अपनी अपनी श्रद्धा अनुसार पढेंगे, और तदनुसार आचरण भी कर सकते हैं , अतः आवश्यकता है कि आप नाज़ुक विषयों पर, प्रतिक्रिया देते समय, लेखन को पढ़ अवश्य लें और आपकी प्रतिक्रिया समाज व देश के लिए ईमानदार हो, यही आशा है !